भारत में लाल किला कहाँ है? | Lal Kila kaha hai

 भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित लाल किला देश के गौरव और स्वतंत्रता का प्रतीक है। मुगल काल के दौरान बने इस ऐतिहासिक स्मारक को विश्व धरोहर स्थल के रूप में सूचीबद्ध किया गया है और यह भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। लाल किले की सुंदरता, भव्यता और आकर्षण, इसकी शाही वास्तुकला और अनूठी वास्तुकला को देखने के लिए दुनिया भर से लोग यहां आते हैं।

 यह शाही किला केवल मुगल सम्राटों का राजनीतिक केंद्र था, बल्कि कभी एक औपचारिक केंद्र था, जो लगभग 200 वर्षों तक मुगल शासकों द्वारा शासित था। लाल किला देश की जंग--आजादी का प्रमाण है, जो मुगल वास्तुकला, रचनात्मकता और सुंदरता का अनूठा उदाहरण है।

 1648 . में बने इस शानदार किले में एक बेहद खूबसूरत संग्रहालय भी है। 250 एकड़ में फैला यह शानदार किला मुगलों और अंग्रेजों के खिलाफ एक गहन संघर्ष की कहानी कहता है। वहीं भारत का राष्ट्रीय गौरव माने जाने वाले इस किले का इतिहास बहुत ही रोचक है आइए जानते हैं लाल किले का इतिहास, इसकी शाही इमारतें और इससे जुड़े अनसुने और रोचक तथ्य

दिल्ली में लाल किला/Red Fort कब और किसने बनवाया और इसका इतिहास

 राजधानी Delhi  में स्थित भारतीय और मुगल वास्तुकला से बनी इस शानदार ऐतिहासिक कलाकृति का निर्माण पांचवें मुगल शासक शाहजहां ने करवाया था। मध्य दिल्ली में yumana  नदी के तट पर स्थित यह शानदार किला तीन तरफ से यमुना नदी से घिरा हुआ है, जो इसे अद्भुत और इसका आकर्षण बनाता है।

 1638 . में मुगल सम्राट शाहजहाँ द्वारा विश्व विरासत सूची में अंकित विश्व के सर्वश्रेष्ठ किले के निर्माण पर काम शुरू हुआ। भारत के इस भव्य लाल किले का निर्माण काम 1648 ईसवी तक करीब 10 साल  तक चला।


 मुगल बादशाह शाहजहां द्वारा निर्मित सभी इमारतों का अलग-अलग ऐतिहासिक महत्व है। उन्होंने जो ताजमहल बनवाया वह अपनी सुंदरता और आकर्षण के लिए दुनिया के सात अजूबों में शामिल है, उसी तरह दिल्ली का लाल किला पूरी दुनिया में मशहूर है। इस विशाल ऐतिहासिक महल के प्रति लोगों के मन में सच्ची श्रद्धा और सम्मान है।

आपको बता दें कि शाहजहाँ अपने द्वारा बनाए गए सभी किलों के बीच इस किले को बहुत ही आकर्षक और सुंदर बनाना चाहता था, इसलिए उसने 1638 .

 इस भव्य किले के निर्माण के कारण भारत की राजधानी दिल्ली का नाम शाहजहानाबाद रखा गया है और इसे शाहजहाँ के शासन की रचनात्मकता का उदाहरण माना जाता था। मुगल बादशाह शाहजहां के बाद उनके बेटे औरंगजेब ने भी इसी किले में मोती-मस्जिद का निर्माण कराया था।

 उसी समय जब 17वीं शताब्दी में लाल किले पर जहांदार शाह ने कब्जा कर लिया था, लाल किला लगभग 30 वर्षों तक बिना शासक के चला गया। उसके बाद, नादिर शाह ने लाल किले पर शासन किया और कुछ दिनों के लिए सिखों ने इस महान किले पर भी शासन किया।

 उसके बाद 18वीं शताब्दी में अंग्रेजों ने लाल किले पर अधिकार कर लिया और किले में लूटपाट की।

भारत के आजाद होने के बाद देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उस पर तिरंगा फहराकर देश के नाम संदेश दिया।

 इस बीच, स्वतंत्रता के बाद, लाल किला सैन्य प्रशिक्षण के लिए इस्तेमाल किया गया था और बाद में एक प्रसिद्ध प्रमुख पर्यटन स्थल बन गया, जबकि 2007 में इसे विश्व विरासत सूची में अंकित किया गया था और आज इसकी खूबसूरती को देखने दुनिया के कोने-कोने से लोग इसे देखने दिल्ली जाते हैं।

लाल किले की शानदार वास्तुकला और उसका भव्य स्वरूप

 भारत की जंग--आजादी की गवाह रह चुका लाल किला दुनिया भर में अपनी भव्यता और आर्कषण की वजह से मशहूर है। यह अपनी उत्कृष्ट कारीगरी और नाजुक बनावट के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। दुनिया का सबसे खूबसूरत किला आकार में अष्टकोणीय है और लाल बलुआ पत्थर और सफेद संगमरमर से बना है।

 इस बीच, किले को बनाए जाने के समय कोहिनूर हीरे जैसे कई कीमती रत्नों से सजाया गया था, लेकिन जब अंग्रेजों ने भारत पर शासन किया, तो उन्होंने इसे छीन लिया। वहीं इस विशाल किले में शाही मयूर सिंहासन भी बनाया गया था, जिस पर बाद में अंग्रेजों का कब्जा हो गया।

 लगभग डेढ़ किलोमीटर के दायरे में फैला यह शानदार भारतीय ऐतिहासिक स्मारक लगभग 30 मीटर ऊंची पत्थर की दीवारों से घिरा हुआ है, जिन पर मुगल वास्तुकला का उपयोग करके खूबसूरती से नक्काशी की गई है। इसके अतिरिक्त रेशम की चादरों का प्रयोग किया जाता था।

मुगल, हिन्दू और फारसी स्थापत्य शैली से निर्मित विश्व के विशाल दुर्गों के परिसर में अनेक सुन्दर एवं भव्य इमारतें निर्मित हैं, जो इनकी सुन्दरता में चार चांद लगाती हैं तथा इनके आकर्षण को दुगना करती हैं। लगभग 1.5 किमी के दायरे में इस भव्य लाल किले के अंदर मोती मस्जिद, नौबत खाना, मीना बाजार, दीवाने खास, रंग महल, दीवानेआम, सावन जैसी कई खूबसूरत ऐतिहासिक इमारते बनी हुई हैं।


 इस दुनिया के सबसे बड़े किले में तीन गेट बने हैं। इस किले के अंदर बने मुख्य द्वार दिल्ली गेट और लाहौर गेट हैं। ये ऐतिहासिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण हैं। इस भव्य किले में बना लोहारी गेट पर्यटकों और आम जनता के लिए खुला है, लेकिन इस किले में बने दिल्ली गेट से वीवीआईपी(vvip) लोगों के लिए बेहद खास है।

वहीं कई इतिहासकारों के मुताबिक पहले इस बड़े किले के अंदर 4 अलग-अलग दरवाजे बनाए गए थे, लेकिन सुरक्षा के चलते बाद में 2 दरवाजे बंद कर दिए गए। इस भव्य किले के भीतर मुगल काल की लगभग सभी कलाकृतियों को गिना जाता है, जो भारत के लिए राष्ट्रीय गौरव का स्रोत है।

 इसके अलावा, दुनिया के इस सबसे खूबसूरत ऐतिहासिक स्मारक के चारों ओर हरे-भरे फूलों के बगीचे और अलंकृत मंडप और मेहराब भी हैं, जो इसकी सुंदरता को बढ़ाते हैं। दुनिया की इस सबसे प्रभावशाली और खूबसूरत ऐतिहासिक इमारत को बनाने में करीब 1 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे, उस समय का सबसे शानदार और सबसे महंगा किला, इसका पुराना नामकिला--मुबारक था

लाल किले का वास्तुकार

 मुगल सम्राट शाहजहाँ ने किले को डिजाइन करने के लिए आगरा में ताजमहल के डिजाइनर और एक प्रमुख मुगल वास्तुकार उस्ताद अहमद लाहौरी को चुना।

 दूसरी ओर, उस्ताद अहमद शानदार इमारतों के कल्पनाशील निर्माण के उस्ताद थे, उन्होंने अपने नाम की तरह ही लाल किले का निर्माण अपनी पूरी समझदारी और कल्पना से किया, और इसे एक बहुत ही सुंदर और भव्य रूप दिया। यही कारण है कि इतने वर्षों के निर्माण के बाद भी लाल किला आज भी अपनी विशालता और सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है।

Post a Comment

Previous Post Next Post

Contact Form